Shares 36

इस Police कॉन्सटेबल ने बचाये ४०० स्कूली बच्चो की जान

Police Constable from Madhya Pradesh

Police बल हमेशा ही हमारी सुरक्षा में दिन रात लगे रहते हैं और अपनी पूरी मेहनत और ईमानदारी से कर्त्तव्य निभाते आए है। सेना और पुलिस बल का वर्दी का रंग भले ही अलग हो किंतु मकसद एक ही हैं, देश की सुरक्षा! मध्य प्रदेश के सागर जिले के पुलिस कॉन्सटेबल अभिषेक पटेल ने अपनी सुझबुझ से और अपनी बहादुरी दिखाते हुए एक जबरदस्त मिसाल दी है।

 

२६ अगस्त शनिवार का दिन था। सागर जिले के चितोरा गांव में एक स्कूल में १० किलो वजन का तोप का गोला बरामद होने की खबर से अफरा-तफरी मच गई। पुलिस को सूचना मिलते ही वे वह पहुँच गयी। बम निरोधक दस्ते की टीम को भी खबर कर दी गयी। स्कूल में किसी भी तरह का जान-माल का नुकसान न हो यह सोचकर इस दहशत के माहौल में पुलिस कॉन्सटेबल अभिषेक पटेल अचानक उस १० किलो वजन के तोप के गोले को अपने कंधे पर लादकर अकेले ही स्कूल से १ km दूर ले गए। उन्होंने अपनी जान की परवाह नहीं की। उन्हें परवाह थी स्कूली बच्चो और वहां मौजूद लोगों की जान की।

 

अभिनेता अनुपम खेर की ट्वीट:

police constable Abhishek Patel tweet by Anupam Kher

अभिषेक पटेल की बहादुरी के चलते स्कूल में मौजूद ४०० बच्चों की जान और स्कूल को किसी प्रकार की हानि से बचाया गया। किसी भी तरह का जान-माल का नुकसान नहीं हुआ। पटेल की इस बहादुरी का किस्सा किसी ने रिकॉर्ड किया। १० किलो वजन का गोला लेकर दौड़ते हुए अभिषेक पटेल का 12 सेकेंड का एक विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया है। इस वीडियो में वे बड़े बड़े पत्थर और झाड़ियों की और से कूदते हुए एक छोटी पहाड़ी की तरफ दौड़ते हुए दिखा।

 

लौटने पर कॉन्सटेबल अभिषेक पटेल ने बताया कि कुछ महीने पहले, वे बम से संबंधित एक पुलिस ऑपरेशन में हिस्सा लिया था। अगर यह १० किलो वजन के गोले में विस्फोट होता तो इससे ५०० मीटर की दूरी तक जान माल की क्षति हो जाती। इसीलिए उन्होंने यह कदम उठाया की इस गोले को खतरे के क्षेत्र से बाहर फेंक आये।

 

Featured image source: Internet Hindu.

Shares 36
The following two tabs change content below.
manoshi sinha
Manoshi Sinha is a writer, poet, certified astrologer, avid traveler, and author of 7 books including 'The Eighth Avatar', and 'Blue Vanquisher' - Krishn Trilogy 1 and 2 that delve on Krishn beyond myths.

Comments

Loading...

Contact Us