Shares 228

31,000 किसान दो भाइयों द्वारा लाभान्वित; Farmer Friend से जुड़कर

वो दोनों किसान परिवार से हैं। Farmer Friend के संस्थापक है। वो दोनों यूरोप में अच्छी तरह से बस गए हैं, अपने परिवार के होटल और रेस्तरां के व्यवसाय को संचालित कर रहे हैं। हम पवित्रपाल सिंह, जो एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और उनके चचेरे भाई हरजाप सिंह के बारे में चर्चा कर रहे हैं। व्यवसाय में जुडने से पहले पवित्र एक सॉफ्टवेयर फर्म में काम किया करते थे, जबकि हरजाप अपने गांव में खेती में शामिल थे। पवित्र के पिता बलकार सिंह संधू भारतीय सेना में एक सुबेदार मेजर थे; वह समर्पित सेवा के ३२ साल बाद 2008 में सेवानिवृत्त हुए। रिटायरमेंट के तुरंत बाद बलकार सिंह संधू खेती में सक्रिय रूप से शामिल हो गए।

 

यह दोनों चचेरे भाई किसानों के लिए भारत आए, कुछ समय के लिए अपने आकर्षक कारोबार को छोड़कर। भारत भर में किसानों से मिलने के बाद, उनकी समस्यायें सुनने के बाद, समाधान ढूंढे और उनके लिए एक मंच बनाया। उन्होंने Farmer Friend की स्थापना की जो कि किसानों और समाज के बीच के अंतर को खत्म करते हैं, जहां किसान-ग्राहक से सीधे संपर्क कर सकते हैं। इस पहल से 31,000 से अधिक किसानों को लाभ हुआ है। दिन ब दिन और किसान जुड़ रहे हैं।

 

यहाँ श्रीमती मानोषी सिन्हा, प्रधान संपादक My India My Glory e-magazine के द्वारा पवित्रपाल सिंह के साथ ऑनलाइन साक्षात्कार का एक अंश प्रस्तुत है।

 

1. Farmer Friend को स्थापित करने का विचार कब और कैसे हुआ?
पंजाब में हमारे क्षेत्र (अमृतसर और तरन तारण) में किसानों के उत्थान के लिए मेरे पिता सक्रिय रूप से लड़ते रहे हैं। वो इस कारण के लिए नियमित रूप से धरने में भाग लेते आए है। मौजूदा व्यवस्था को बदलना एक कठिन काम है, लेकिन उन्होनें और उनके समर्थकों ने इसके लिए लड़ना जारी रखा।

भगवान की कृपा से हमें पर्याप्त भूमि और एक आरामदायक जीवन जीने लायक आय है। मेरे पिता ने देखा कि क्षेत्र के छोटे किसानों को दलालों द्वारा धोखा दिया जा रहा है। कई किसान तीन पीढ़ियों तक ऋण चुकाने में असमर्थ थे। कुछ ने आत्महत्या भी की। मेरे पिता लगातार किसान अधिकारों के लिए लड़ते रहे।

 

Balkar Singh Sandhu

एक घटना हुई २०१४ में जिसने मुझे और मेरे चचेरे भाई हरजाप को भारत आने के लिए प्रेरित किया। यूरोप में हमने अपना कारोबार कुछ समय के लिए छोड़ दिया।

 

हुआ यह था कि हमेशा की तरह, मैंने यूरोप से अपनी मां को फोन किया। मुझे पता चला कि मेरे पिता एक धरने में भाग लेने के लिए गए थे। क्योंकि हमारे पिता के लिए यह एक नियमित गतिविधि थी, मैं इससे परेशान नहीं हुआ, लेकिन तीन दिनों के बाद जब मैंने अपनी मां को फोन किया और पता चला कि पिछले ३ दिनों से धरना स्थल से अभी तक नहीं लौटे, तो मैं चौंक गया। मेरी मां ने यह भी बताया कि प्रदर्शनकारियों पर लाठी चार्ज किया गया था और कुछ लोगों को सलाखों के पीछे रखा गया। इस धरने में एक किसान की मौत हो गयी थी।

 

मैंने अपने चचेरे भाई हरजाप सिंह से इस स्थिति पर चर्चा की। हम दोनों ने भारत वापस आने का फैसला किया और इस समस्या का एक स्थायी समाधान खोजने के लिए काम करना शुरू कर दिया। हमने भारत भर के किसानों के साथ १८ महीने चर्चा की, समस्या की गहराई तक गए और मूल कारणों का अध्ययन किये। और फिर हम दोनों ने किसानों के लिए ‘Farmer Friend’ या किसान मित्र नामक मंच बनाने का फैसला किया।

 

इस मंच के माध्यम से किसान सीधे अंतउपयोगकर्ताओं से संपर्क कर सकते हैं और इसका विपरीत भी हो सकता है। हमें किसान मित्र के बारे में उन्हें शिक्षित करने के लिए कुछ समय लगा। हमने इस अभियान के लिए किसानों का विश्वास जीतना शुरू कर दिया और हमारी परियोजना के साथ उन्हें जोड़ना शुरू किया।

 

हमने Farmer Friend को एक कंपनी के रूप में पंजीकृत किया और इसे एक वेबसाइट के रूप में लॉन्च किया। यह वेबसाइट एक सामाजिक कारण के लिए है, जिसका कोई लाभ उद्देश्य नहीं है। हम दोनों अब तक इस परियोजना को स्वयं प्रायोजित कर रहे हैं।

 

2. क्या आप दोनों अकेले ही किसानों के लिए इस पहल में शामिल हैं? कृपया विस्तार से बताएं।
यह टीम प्रयास है। हरजाप और मैंने इस पहल की शुरुआत की और अब हमारे पास ३०+ सदस्यों की एक टीम है और भारत भर में विभिन्न राज्यों / स्थानों से १००+ स्वयंसेवक है।

 

3. इस अभियान से कितने किसानों का लाभ हुआ है?
मेरे पास सही संख्या नहीं है लेकिन सकारात्मक तौर पर ३१,००० किसानों को Farmer Friend से लाभ मिल रहा है। वे अपनी फसल की पैदावार, दूध उत्पादन आदि से लाभ प्राप्त कर रहे हैं।

 

4. कृपया अपनी पहल के माध्यम से किसानों को लाभान्वित होने के बारे में विस्तृत जानकारी दें। आप क्या सुविधाएं उन्हें प्रदान करते हैं?
हम मूल रूप से किसानों के साथ उपभोक्ताओं, घरों और थोक / व्यावसायिक घरानों, होटल / रेस्तरां, कॉरपोरेट घरानों को जोड़ रहे हैं। कैफेटेरिया, दैनिक खाद्य विक्रेता किसानों से प्रत्यक्ष रूप से खरीदते हुए शामिल हो रहे हैं और सुझाए गए खुदरा मूल्य (एमएसआरपी) से जो आम तौर पर मिलते हैं उसकी तुलना में बेहतर कीमत दे रहे हैं।

Pawiter Pal Singh and Harjap Singh

5. Farmer Friend से किन राज्यों के किसान लाभान्वित हैं?
हमने पंजाब और हरियाणा से शुरू किया लेकिन अब हम पूरे देश में इस मॉडल का फायदा पहुंचा रहे हैं और हमारी टीम भारत भर में किसानो के साथ हाथ मिला रही है। अब हमारे साथ अनंतनाग (जम्मू और कश्मीर), धर्मशाला (हिमाचल) नागालैंड, असम, राजस्थान और दक्षिण भारत के कई क्षेत्रों से ३१००० से भी अधिक किसान जुड़ गए है।

 

6. पूरे देश में राजस्थान, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में आत्महत्या करने वाले किसान आम हैं। क्या Farmer Friend के साथ जुड़े किसानों को ऋण बोझ, कम फसल की पैदावार, और अन्य समस्याओं से मुक्ति मिल सकती है?
हां, उनकी वित्तीय स्थिति में निश्चित रूप से सुधार होगा। अधिक से अधिक किसान हमारे साथ अब जुड़ रहे हैं और उन्हें आर्थिक फायदा हो रहा है।

 

उनकी वित्तीय स्थिति में सुधार करना हमारा मुख्य लक्ष्य है और उन्हें डिलीवरी पर नकदी मिलती है ताकि मेहनती किसानों को उनकी मेहनत का फल तुरंत मिले।

 

7. क्या आपके पास सूखे जैसी स्थितियों की स्थिति में किसानों की कोई पहल है?
हम एनजीओ / सीएसआर के साथ चर्चा की प्रक्रिया में हैं, जो हमारे देश के सूखे प्रभावित क्षेत्रों में काम कर रहे हैं और हम उन किसानों की सहायता के लिए एक मॉडल तैयार कर रहे हैं।

 

8. आपकी भविष्य की योजनाएं।
वर्ष २०१७ के अंत तक, हम भारत के १ लाख किसानों के साथ हाथ मिलाने और Farmer Friend के माध्यम से उनके जीवन को सशक्त बनाना चाहते हैं।

 

Farmer Friend के साथ किसानो को जुड़ने में मदद करें, अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Shares 228
The following two tabs change content below.
manoshi sinha
Manoshi Sinha is a writer, poet, certified astrologer, avid traveler, and author of 6 books including 'The Eighth Avatar', Krishn Trilogy-1 that delves on Krishn beyond myths. 'Blue Vanquisher', Krishn Trilogy-2 will be released in August 2017.

Comments

Loading...