पेड़ काटकर घर में मनी प्लांट लगाने वाले को ‘भीषण गर्मी की शुभकामना’: योगेश्वर दत्त

पेड़

अनेक उपयोगी पेड़ों को काटकर हमने खुद प्रकृति को रूष्ट किया है। प्रकृति की उपयोगिता जानते तो सभी हैं परंतु पहचानता कोई एक विरला ही है। वृक्षों का महत्व सिर्फ प्रदूषण और गर्मी को नियंत्रित करने में सीमित नहीं है। पेड़ की छाल, पत्तियां हमें कई बीमारियों का उपचार उपलब्ध कराती हैं, इनके कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होते हैं।

 

योगेश्वर दत्त, फ्रीस्टाइल पहलवान, ओलंपिक पदक विजेता, ने हाल ही में ट्वीट किया है – आम, नीम, पीपल, और बरगद के पेड़ काटकर घर में मनी प्लांट लगाने वाली मानव-जाति को ‘भीषण गर्मी की शुभकामना’।

 

आम की पत्तियां और छाल सदियों से प्राकृतिक दवाईयां बनाने में प्रयोग किये गए है। यह ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में उपयोगी हैं। आम की पत्तियां एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी-एलर्जिक, पित्ताशय की पथरी, लिवर को सेहतमंद रखना, डायबिटीक रेटिनोपैथी और अनेक तरह की बीमारियों के इलाज में काम आती हैं।

 

किसी ने सही कहा है कि नीम लाख दुखों की एक दवा है। इसके पत्ते, तने, जड़, छाल और कच्चे फल कई तरह के रोग, जैसे डायबिटिज, एक्जिमा, कैंसर, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस, मलेरिया, मियादी बुखार, मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, हृदयरोग आदि के इलाज में काम आता है। भारत में नीम के पेड़ को ‘गांव का दवाखाना’ कहा जाता है।

 

पीपल के पेड़ भारतीय संस्कृति में धार्मिक महत्व रखते है। अनेक पर्वों पर इसकी पूजा की जाती है। कई छोटी बड़ी बीमारियाँ जैसे हृदय रोग, पीलिया, रतौंधी, दमा, सर्दी, सिर दर्द, मलेरिया, खाँसी, आदि के इलाज में पीपल की टहनी, अर्क, लकड़ी, पत्ते, कोपल और सीक बहुत उपयोगी है।

 

बरगद का पेड़ यानी वट वृक्ष बहुत ही विशाल होता है। भारत में यह पवित्र माना जाता है और कई त्यौहारों पर पूजा जाता है। इसकी पत्तियों का दूध, छाल, कोंपलें अनेक बीमारियों जैसे आमवात, कमर, जोड़ों का दर्द, आदि की दवा है। आयुर्वेद में इस पेड़ को एक दैवीय उपहार बताया गया है।

 

भारतीय संस्कृति में वट, पीपल व नीम को ब्रह्मा, विष्णु, महेश की त्रिमूर्ति की तरह ही माना जाता है।

 

आओ हम मिल-जुलकर पेड़ उगायें और प्रकृति को बचायें ।
The following two tabs change content below.
Sudha Verma

Sudha Verma

Bharat Bhakt. Proud mother of three children. Love discoursing and writing on the ancient scriptures, History, and current political situation. Cricket fan.

Comments

error: Content is protected !!
Loading...

Contact Us